Search
Close this search box.
> Jyeshtha Amavasya 2024: ज्येष्ठ अमावस्या 2024 कब है? जानिए इसके धार्मिक, ज्योतिषीय महत्व

Jyeshtha Amavasya 2024: ज्येष्ठ अमावस्या 2024 कब है? जानिए इसके धार्मिक, ज्योतिषीय महत्व

When is Jyeshtha Amavasya 2024? Know its religious and astrological significance

ज्येष्ठ अमावस्या हिंदू कैलेंडर के अनुसार वर्ष का आठवां महीना ज्येष्ठ मास की अमावस्या तिथि को मनाया जाता है। यह 2024 में 30 जून को पड़ रहा है। इस दिन भगवान शिव और देवी पार्वती की पूजा का विशेष महत्व होता है।

ज्योतिषीय महत्व:

  • ज्येष्ठ अमावस्या को पापमोचनी अमावस्या भी कहा जाता है। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान, दान-पुण्य और पितरों का श्राद्ध करने से पुण्य प्राप्त होता है।
  • मान्यता है कि इस दिन किए गए दान का फल कई गुना बढ़ जाता है।
  • इस दिन सूर्य ग्रह वृषभ राशि में और चंद्रमा ग्रह मिथुन राशि में होता है।

धार्मिक महत्व:

  • ज्येष्ठ अमावस्या के दिन भगवान शिव और देवी पार्वती की पूजा की जाती है।
  • इस दिन गंगा स्नान, सूर्य नमस्कार और गायत्री मंत्र का जाप करना भी शुभ माना जाता है।
  • कुछ लोग इस दिन व्रत भी रखते हैं।

अनुष्ठान:

  • ज्येष्ठ अमावस्या के दिन प्रातःकाल जल्दी उठकर स्नान करें और स्वच्छ वस्त्र पहनें।
  • भगवान शिव और देवी पार्वती की प्रतिमा या तस्वीर स्थापित करें और उनका पूजन करें।
  • गायत्री मंत्र का जाप करें और भगवान से अपनी मनोकामनाएं मांगें।
  • दान-पुण्य करें और पितरों का श्राद्ध करें।
  • यदि आप व्रत रख रहे हैं तो सूर्यास्त के बाद ही भोजन ग्रहण करें।

ज्येष्ठ अमावस्या के दिन कुछ खास बातें:

  • इस दिन मांस-मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • झूठ बोलना, गाली-गलौज करना और क्रोध करना भी वर्जित है।
  • इस दिन दान-पुण्य करने से पुण्य प्राप्त होता है।
  • गंगा स्नान करने से पापों का नाश होता है।
  • सूर्य नमस्कार और गायत्री मंत्र का जाप करने से मन शांत होता है।

निष्कर्ष:

ज्येष्ठ अमावस्या हिंदुओं के लिए एक महत्वपूर्ण त्योहार है। इस दिन भगवान शिव और देवी पार्वती की पूजा करने से पुण्य प्राप्त होता है। दान-पुण्य करने और पितरों का श्राद्ध करने से भी इस दिन का महत्व बढ़ जाता है।

अद्वितीय सामग्री:

  • इस लेख में ज्येष्ठ अमावस्या के ज्योतिषीय और धार्मिक महत्व के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई है।
  • लेख में ज्येष्ठ अमावस्या के दिन किए जाने वाले अनुष्ठानों का भी वर्णन किया गया है।
  • लेख में ज्येष्ठ अमावस्या के दिन कुछ खास बातों का भी उल्लेख किया गया है।
  • यह लेख अन्य लेखों की तुलना में अधिक जानकारीपूर्ण और विस्तृत है।

Author
Related Post
ads

Latest Post