Search
Close this search box.
> Raibareilly Lok Sabha Chunav 2024: रायबरेली से राहुल के चुनाव लड़ने के फैसले को सोचा समझा बताया

Raibareilly Lok Sabha Chunav 2024: रायबरेली से राहुल के चुनाव लड़ने के फैसले को सोचा समझा बताया

Raibareilly Lok Sabha Chunav 2024

मोदी में हिम्मत तो विध्यांचल के नीचे किसी सीट से लड़ें: जयराम

प्रियंका गांधी को नहीं रख सकते अपने क्षेत्र तक सीमित

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के अमेठी की बजाय रायबरेली से चुनाव लड़ने के फैसले को सोच-समझा बताया है। उन्होंने कहा कि गांधी परिवार का गढ़ अमेठी-रायबरेली ही नहीं, बल्कि उत्तर से दक्षिण तक पूरा देश गांधी परिवार का गढ़ है। राहुल गांधी तीन बार उत्तरप्रदेश से और एक बार केरल से सांसद बन गए, लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विंध्याचल से नीचे जाकर चुनाव लडऩे की हिम्मत नहीं जुटाई है। उन्होंने कहा कि शतरंज की कुछ चालें बाकी हैं, जिसके लिए थोड़ा इंतजार करना होगा।

जयराम ने पत्रकारों से कहा कि राहुल गांधी की रायबरेली से चुनाव लड़ने की खबर पर बहुत सारे लोगों की बहुत सारी राय हैं। लेकिन राहुल राजनीति और शतरंज के मंजे हुए खिलाड़ी हैं। सोच समझ कर दांव चलते हैं। ऐसा निर्णय पार्टी के नेतृत्व ने बहुत विचार-विमर्श करके बड़ी रणनीति के तहत किया है। इस निर्णय से भाजपा, उनके समर्थक और चापलूस धराशायी हो गए हैं। बेचारे स्वयंभू चाणक्य जो ‘परंपरागत सीट’ की बात करते थे, उनको समझ नहीं आ रहा अब क्या करें? उन्होंने कहा कि रायबरेली सिर्फ सोनिया जी की नहीं खुद इंदिरा गांधी जी की सीट रही है। यह विरासत नहीं जिम्मेदारी है।

लीजिए आ गया आम कार्यकर्ता

जयराम ने कहा कि कांग्रेस परिवार लाखों कार्यकर्ताओं की अपेक्षाओं उनकी आकांक्षाओं का परिवार है। कांग्रेस का एक साधारण कार्यकर्ता ही बड़े बड़ों पर भारी है। कुछ लोग अमेठी में साधारण कार्यकर्ताओं से उनके टिकट मिलने को लेकर मजाक करते रहे हैं। लीजिए, अमेठी से आ गया कांग्रेस का एक आम कार्यकर्ता। जो अमेठी में भाजपा का भ्रम और दंभ दोनों तोड़ेगा।

जयराम ने कहा कि प्रियंका गांधी धुआंधार प्रचार कर रही हैं और अकेली नरेंद्र मोदी के हर झूठ का जवाब सच से देकर उनकी बोलती बंद कर रही हैं। इसीलिए यह जरूरी था कि उन्हें सिर्फ अपने चुनाव क्षेत्र तक सीमित ना रखा जाए। प्रियंका तो कोई भी उपचुनाव लड़कर सदन पहुंच जाएंगी।

स्मृति को अब देना होगा जवाब
जयराम ने कहा कि आज स्मृति ईरानी की सिर्फ यही पहचान है कि वो राहुल गांधी के खिलाफ अमेठी से चुनाव लड़ती हैं। अब स्मृति ईरानी से वो शोहरत भी छिन गई। अब व्यर्थ की बयानबाज़ी के स्मृति ईरानी स्थानीय विकास के बारे में जवाब देना होगा। उन्हें बंद किए अस्पताल, स्टील प्लांट और ट्रिपल आईटी पर जवाब देना होगा।

Author
Related Post
ads

Latest Post