Search
Close this search box.
> नागपुर में पारा 54.4 डिग्री रेकॉर्ड, आइएमडी बोला— सेंसर खराब

नागपुर में पारा 54.4 डिग्री रेकॉर्ड, आइएमडी बोला— सेंसर खराब

New wave of heat: thermometer sensor failed, questions raised on reliability across the country
heat wave

देश में बरकरार प्रचंड गर्मी के बीच नागपुर में गुरुवार को अधिकतम तापमान 56 डिग्री चले जाने की प्रारंभिक सूचना से मौसम विभाग में हड़कंप मच गया। बाद में विभाग की ओर से बताया गया कि नागपुर के स्वचालित मौसम स्टेशन के सेंसर की गड़बड़ी के कारण 54.4 डिग्री तापमान रेकॉर्ड किया गया था। इससे पहले दिल्ली के मुंगेशपुर में भी 52.9 डिग्री तापमान रेकॉर्ड होने पर विभाग ने सेंसर की जांच करने की बात कही थी।

आइएमडी ने शुक्रवार को बताया कि गुरुवार को नागपुर का तापमान दरअसल 44.6 डिग्री था। वहीं प्रादेशिक मौसम विभाग के वैज्ञानिक प्रवीण कुमार बताया कि सेंसर एक क्षमता के बाद लीनियरिटी खो देता है। आमतौर पर जब भी तापमान 42-43 डिग्री को पार करता है, तब ये अचानक बढ़ता चला जाता है। इस कारण यह गड़बड़ी हुई।

दूसरी ओर देशभर में शुक्रवार को भी प्रचंड गर्मी का दौर जारी रहा। दिल्ली सहित कई राज्यों में तापमान 45 डिग्री सेल्सियस से अधिक दर्ज किया गया।

तापमापी पर सवाल :
दिल्ली और नागपुर में 50 डिग्री से ज्यादा तापमान दर्ज किए जाने के बाद मौसम विभाग के यह कहने से कि सेंसर में गड़बड़ी हो सकती है, अन्य स्थानों पर स्थापित सेंसर की विश्वसनीयता पर भी सवाल उठने लगे हैं। आइएमडी की सेंसर की त्रुटि की जांच के बीच मौसम विज्ञानियों ने स्पष्ट किया कि देश में तापमान इतना अधिक नहीं बढ़ सकता। निजी एजेंसी स्काइमेट के प्रवक्ता महेश पलावत का मानना है कि तापमान मापक यंत्र में गड़बड़ी के कारण इतना अधिक तापमान रीड कर लिया गया। अगर तापमान 53 डिग्री सेल्सियस के आसपास पहुंच जाएगा तो समझा जा सकता है कि क्या हाल होगा।

असम के 9 जिलों में बाढ़, दो लाख प्रभावित

ओर चक्रवात रेमल के कारण असम में बाढ़ के हालात बने हुए हैं। नौ जिलों में बाढ़ के कारण दो लाख से अधिक लोग प्रभावित हैं। छह लोगों की मौत हो गई। हजारों लोगों ने 110 राहत शिविरों में शरण ले रखी है। ब्रह्मपुत्र व बराक नदियों के साथ उनकी सहायक नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। राजमार्ग व तटबंध क्षतिग्रस्त हो गए हैं।

29 मतदान कर्मियों की मौत

चुनाव के अंतिम चरण से पहले गर्मी ने मतदानकर्मियों पर कहर ढाया है। यूपी और बिहार के आधा दर्जन जिलों में शनिवार को होने वाली वोटिंग कराने पहुंचे 29 मतदानकर्मियों की गर्मी से मौत हो गई और कई बीमार हैं। यूपी के मिर्जापुर में 13 मतदानकर्मियों की मौत हुई है। इसमें सात होमगार्ड हैं। वाराणसी और सोनभद्र में 3-3, मऊ और चंदौली में एक-एक कर्मचारी की मौत हो गई है। बिहार के भोजपुर में पांच और रोहतास में तीन चुनाव अधिकारियों की लू लगने से मौत हो गई।

लू से अब तक 270 लोगों की गई जान
देश में प्रचंड लू से अब तक 270 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा 162 लोगों की जान गई। गुरुवार तक बिहार में 65 और ओडिशा में 41 लोगों की मौत हो चुकी थी। झारखंड की राजधानी रांची में भी 11 लोगों की जान गई। इसके अलावा देशभर में अस्पतालों में हीट स्ट्रोक की चपेट में आए सैकड़ों लोगों का इलाज किया जा रहा है।

Author
Related Post