Search
Close this search box.
> राष्ट्र और समाज को राह दिखाता है आचार्यश्री का चिंतन: बिरला

राष्ट्र और समाज को राह दिखाता है आचार्यश्री का चिंतन: बिरला

Acharyashree's thinking shows the path to the nation and society: Birla

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला महाराष्ट्र के जालना में जैन श्वेतांबरतेरापंथ धर्मसंघ के 11वें अनुशासक आचार्य महाश्रमण की दीक्षा के 50 वर्ष पूरे होने के अवसर पर आयोजित दीक्षा कल्याण महोत्सव में सम्मिलित हुए। बिरला ने कहा कि महज 11 वर्ष की आयु में दीक्षा प्राप्त करने के बाद आचार्य महाश्रमण जी ने अपने गुरु आचार्य तुलसी जी और आचार्य महाप्रज्ञ जी की शिक्षाओं को और समृद्ध करने का काम किया।

उन्होंने समाज में एक सकारात्मक बदलाव लाते हुए हर वर्ग के लोगों के जीवन से अंधकार को दूर कर आध्यात्म और ज्ञान का प्रकाश किया। बिरला ने कहा कि समाज को नशामुक्ति के लिए उन्होंने जो ऐतिहासिक यात्रा की उसने तीन देशों और 20 राज्यों के अनगिनत लोगों के जीवन को सुधारा। उन्होंने अपने प्रवचनों से लाखों लोगों को जीवन जीने की कला सिखाई। आचार्यश्री का जीवन हम सब के लिए स्वयं को जनकल्याण और मानव उत्थान के लिए समर्पित करने की सशक्त प्रेरणा है। इस दौरान भाजपा के कोटा शहर जिलाध्यक्ष राकेश जैन भी मौजूद रहे।

माधवी राजे सिंधिया को अर्पित किए श्रद्धा सुमन:

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला बुधवार को ग्वालियर पहुंचे, जहां उन्होंने दिवंगत माधवी राजे सिंधिया के प्रति श्रद्धा सुमन अर्पित किए। उन्होंने केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया व परिजनों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की। बिरला ने कहा कि माधवी राजे सिंधिया ने भारत की संस्कृति व सेवा के संस्कारों को सशक्त करते हुए सम्पूर्ण जीवन समाज कल्याण को समर्पित किया जो सदैव अनुकरणीय है।

Author
Related Post
ads

Latest Post