Search
Close this search box.
> पेट्रोल, डीजल की नई कीमतें घोषित: 09 जून को अपने शहर में दरें देखें

पेट्रोल, डीजल की नई कीमतें घोषित: 09 जून को अपने शहर में दरें देखें


पेट्रोल, डीजल की कीमतें आज 09 जून को2024: हर दिन सुबह 6 बजे, तेल विपणन कंपनियाँ (OMC) पेट्रोल और डीज़ल की कीमतों की घोषणा करती हैं, जो कि उनकी अंतर्निहित अस्थिरता के बावजूद स्थिरता बनाए रखती हैं। OMC द्वारा प्रबंधित इस रूटीन में वैश्विक कच्चे तेल की कीमतों और विदेशी मुद्रा दरों में उतार-चढ़ाव के जवाब में कीमतों को समायोजित करना शामिल है। यह सावधानीपूर्वक दृष्टिकोण सुनिश्चित करता है कि उपभोक्ता हमेशा नवीनतम ईंधन लागतों से अवगत रहें।

भारत में पेट्रोल और डीजल की कीमतें विभिन्न कारकों से प्रभावित होती हैं, जिनमें माल ढुलाई शुल्क, मूल्य वर्धित कर (वैट) और स्थानीय कर शामिल हैं, जिसके कारण राज्यों में इनकी कीमतें अलग-अलग होती हैं।

भारत में आज पेट्रोल डीजल की कीमत (नीचे शहरवार दर तालिका देखें)

09 जून को शहरवार पेट्रोल और डीजल की कीमतें देखें;

शहरपेट्रोल की कीमत (रुपये/लीटर)डीजल की कीमत (रुपये/लीटर)
दिल्ली94.7287.62
मुंबई104.2192.15
चेन्नई100.7592.34
कोलकाता103.9490.76
नोएडा95.0188.14
लखनऊ94.5687.66
बेंगलुरु99.8485.93
हैदराबाद107.4195.65
जयपुर104.8890.36
तिरुवनंतपुरम107.6296.49
भुवनेश्वर101.0692.64

भारत में, केंद्र सरकार और कई राज्यों द्वारा ईंधन करों में कमी के बाद, मई 2022 से ईंधन की कीमतें स्थिर बनी हुई हैं।

तेल विपणन कंपनियों द्वारा कच्चे तेल की वैश्विक कीमत के आधार पर प्रतिदिन सुबह 6 बजे ईंधन की खुदरा कीमतों को समायोजित किया जाता है। सरकार उत्पाद शुल्क, आधार मूल्य निर्धारण और मूल्य सीमा के माध्यम से ईंधन की कीमतों की निगरानी करती है।

भारत में पेट्रोल और डीजल की कीमतों को प्रभावित करने वाले कारक

कच्चे तेल की कीमत: पेट्रोल और डीजल के उत्पादन के लिए प्राथमिक कच्चा माल कच्चा तेल है, और इस प्रकार, इसकी कीमत सीधे इन ईंधनों की अंतिम लागत को प्रभावित करती है।

भारतीय रुपया और अमेरिकी डॉलर के बीच विनिमय दर: कच्चे तेल के प्रमुख आयातक के रूप में भारत में पेट्रोल और डीजल की कीमतें भारतीय रुपए और अमेरिकी डॉलर के बीच विनिमय दर से भी प्रभावित होती हैं।

कर: पेट्रोल और डीज़ल पर केंद्र और राज्य सरकारें कई तरह के कर लगाती हैं। ये कर अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग हो सकते हैं, जिससे पेट्रोल और डीज़ल की अंतिम कीमतों पर खासा असर पड़ता है।

शोधन की लागत:

पेट्रोल और डीज़ल की अंतिम कीमत कच्चे तेल को इन ईंधनों में रिफाइन करने में होने वाले खर्च से भी प्रभावित होती है। रिफाइनिंग प्रक्रिया महंगी हो सकती है, और रिफाइनिंग खर्च कच्चे तेल के प्रकार और रिफाइनरी की दक्षता जैसे कारकों के आधार पर उतार-चढ़ाव कर सकते हैं।

पेट्रोल और डीजल की मांग: पेट्रोल और डीज़ल की मांग भी इनकी कीमतों को प्रभावित कर सकती है। अगर इन ईंधनों की मांग बढ़ती है, तो इससे कीमतें बढ़ सकती हैं।

Author
Related Post